“बकरी पालन का अनावरण: ग्रामीण भारत में सफलता की खेती”

bakri23-1 bakri

परिचय:

बकरी पालन भारत के कृषि परिदृश्य में एक परिवर्तनकारी शक्ति के रूप में उभरा है, जो देश भर के हजारों किसानों को स्थायी आजीविका और आर्थिक सशक्तिकरण प्रदान करता है। हाल के वर्षों में, बकरी पालन उद्योग में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई है, जो इसकी अनुकूलन क्षमता, कम निवेश आवश्यकताओं और बकरी उत्पादों की बढ़ती मांग के कारण है। यह लेख भारत में बकरी पालन के विभिन्न पहलुओं की पड़ताल करता है, इसकी ऐतिहासिक जड़ों से लेकर किसानों के लिए वर्तमान अवसरों तक।

ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य:



भारत में बकरी पालन की जड़ें गहरी ऐतिहासिक हैं, जो प्राचीन काल से चली आ रही हैं जब समुदाय अपने दूध, मांस और अन्य उप-उत्पादों के लिए बकरियों को पालते थे। बकरियों को विविध कृषि-जलवायु परिस्थितियों में पनपने और जीविका के लिए मूल्यवान संसाधन प्रदान करने की उनकी क्षमता के लिए बेशकीमती माना जाता था। पिछले कुछ वर्षों में, पारंपरिक बकरी पालन प्रथाएं एक अधिक संगठित और व्यावसायिक रूप से व्यवहार्य उद्योग के रूप में विकसित हुई हैं, जिसमें नस्लों में सुधार, उत्पादकता बढ़ाने और बकरी उत्पादों की बढ़ती मांग को पूरा करने पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

अनुकूलनशीलता और कम निवेश:

भारत में बकरी पालन की लोकप्रियता के पीछे प्रमुख कारणों में से एक विभिन्न पर्यावरणीय परिस्थितियों में बकरियों की अनुकूलन क्षमता है। बकरियाँ शुष्क और अर्ध-शुष्क क्षेत्रों में पनप सकती हैं जहाँ अन्य पशुधन को संघर्ष करना पड़ सकता है, जिससे वे विविध भौगोलिक क्षेत्रों में किसानों के लिए एक आदर्श विकल्प बन जाते हैं। इसके अतिरिक्त, बकरी पालन के लिए अन्य पशुओं की तुलना में अपेक्षाकृत कम प्रारंभिक निवेश की आवश्यकता होती है, जिससे यह छोटे और सीमांत किसानों के लिए सुलभ हो जाता है जिनके पास सीमित संसाधन हो सकते हैं।

"सीमाओं से परे: विविध नस्लें भारतीय कृषि में बदलाव ला रही हैं"

नस्लें और उत्पादकता:

भारत विभिन्न प्रकार की बकरियों की नस्लों का घर है, जिनमें से प्रत्येक की अपनी अनूठी विशेषताएं और फायदे हैं। जमुनापारी, बारबरी और सिरोही जैसी लोकप्रिय नस्लें अपनी उच्च दूध उपज के लिए जानी जाती हैं, जबकि बोअर और उस्मानाबादी जैसी अन्य नस्लें मांस उत्पादन में उत्कृष्ट हैं। उपयुक्त नस्ल का चयन किसान के लक्ष्यों और स्थानीय कृषि-जलवायु परिस्थितियों पर निर्भर करता है।

बकरी पालन अपने त्वरित लाभ के लिए जाना जाता है। बकरियों की गर्भधारण अवधि कम होती है और कई अन्य पशुओं की तुलना में वे तेजी से परिपक्वता तक पहुंचती हैं, जिससे किसानों को अपेक्षाकृत कम समय में अपने निवेश पर रिटर्न का एहसास होता है। यह विशेषता स्थिर आय स्रोत चाहने वालों के लिए बकरी पालन को एक आकर्षक विकल्प बनाती है।

आर्थिक प्रभाव:

बकरी पालन का भारत में किसानों की आर्थिक भलाई पर गहरा प्रभाव पड़ता है। बकरी के दूध, मांस और अन्य उप-उत्पादों की बिक्री घरेलू आय में महत्वपूर्ण योगदान देती है, जिससे किसानों को उनकी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने और उनके जीवन स्तर में सुधार करने में मदद मिलती है। आर्थिक लाभ व्यक्तिगत घरों से परे व्यापक समुदाय तक फैलते हैं, जिससे चारे की खेती, परिवहन और प्रसंस्करण जैसे संबंधित क्षेत्रों में रोजगार के अवसर पैदा होते हैं।

चुनौतियाँ और अवसर:

हालाँकि भारत में बकरी पालन में उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई है, लेकिन इसमें चुनौतियाँ भी शामिल हैं। रोग प्रबंधन, बेहतर प्रजनन प्रथाओं के बारे में जागरूकता की कमी और बाजारों तक सीमित पहुंच कुछ ऐसी बाधाएं हैं जिनका किसानों को सामना करना पड़ता है। हालाँकि, सरकारी एजेंसियों, गैर-सरकारी संगठनों और निजी हितधारकों के ठोस प्रयास इन चुनौतियों का समाधान करने और टिकाऊ बकरी पालन के लिए अधिक अनुकूल वातावरण बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं।

सफलता का आधा रास्ता: 50% सब्सिडी के साथ अपने बकरी फार्म को सुरक्षित करना”

 वर्तमान समय में भारत सरकार (नेशनल लाइव स्टॉक मिसन ) द्वारा बकरी पालन के लिए 50 % सब्सिड़ी के साथ लोन स्कीम चल रही हे जिसका फायदा सभी किसान भाई ले सकते हे. इस योजना के तहत किसान के पास अपनी जमीन हो अथवा वह जमीन लीज पर भी ले सकता हे.
यह सरकारी स्कीम हे तो इसमें सरकारी बैंक भी शामिल होंगे, इसलिए इस योजना में सभी सरकारी से आप लोन के लिए अप्लाई कर सकते हो. इस योजना के अंतर्गत 100 से लेकर 500 बकरियों और 5 से लेकर 25 बकरो तक के लिए लोन ले सकते हो जिसमे जानवरो के लिए चारा और रखने के लिए शेड और अन्य मशीन भी शामिल है. इस योजना का लाभ लेने के लिए NLM विभाग द्वारा बकरी पालन का एक प्रोग्राम चलाया जाता हे उसका प्रोग्राम 3 दीनो का होता हे इस प्रोग्राम को अटेंड करने पर सर्टिफिकेट भी दिया जाता हे, इस प्रोग्राम बकरियों की बीमारिया एवं पालन संबधित जानकारिया दी जाती है.


भेड़/बकरी उद्यमिता योजना में पूंजीगत सब्सिडी का लाभ उठाने के लिए कौन सी वस्तुएं पात्र हैं?
भेड़/बकरी उद्यमिता योजना के तहत वित्त पोषण के लिए पात्र वस्तुओं की सांकेतिक सूची इस प्रकार है:

1. मूल स्टॉक के लिए हाउसिंग शेड का निर्माण
2. किड शेड एवं सिक पेन
3. डो की लागत
4. बक की कीमत
5. परिवहन लागत
6. चारे की खेती
7. चारा काटने वाली मशीन
8. एकीकृत साइलेज बनाने की मशीन
9. उपकरण
10. बीमा

विविधआवेदन के दौरान कौन से दस्तावेज़ अपलोड करने होंगे?
आवेदन के दौरान निम्नलिखित दस्तावेज़ अपलोड करने होंगे:

1. परियोजना में आवेदक की हिस्सेदारी का प्रमाण
2. परियोजना में संलग्न किसानों की सूची
3. आवेदक का पता प्रमाण
4.  पिछले 6 महीने का बैंक स्टेटमेंट
5. मुख्य प्रवर्तक का पैन/आधार कार्ड
6. जाति प्रमाण पत्र (यदि लागू हो)
7. प्रशिक्षण प्रमाणपत्र
8. अनुभव प्रमाण पत्र
9. स्कैन की गई फोटो
10. स्कैन किया हुआ हस्ताक्षर

लोन की रकम एवं बकरी और बकरो की संख्या 
100 बकरी + 5 बकरा = 20 लाख का लोन 
200 बकरी +10  बकरा = 40 लाख का लोन 
300 बकरी + 15 बकरा = 60 लाख का लोन 
400 बकरी +20  बकरा = 80 लाख का लोन 
500 बकरी  +25  बकरा  = 1 करोड़ का लोन 

निष्कर्ष:

भारत में बकरी पालन स्थायी और लाभदायक आजीविका चाहने वाले किसानों के लिए आशा की किरण है। इसकी अनुकूलन क्षमता, कम निवेश आवश्यकताएं और त्वरित रिटर्न इसे विभिन्न क्षेत्रों के किसानों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए एक आकर्षक विकल्प बनाते हैं। जैसे-जैसे उद्योग विकसित हो रहा है, प्रजनन प्रथाओं, रोग प्रबंधन और बाजार पहुंच में प्रगति के साथ, भारत में बकरी पालन का भविष्य आशाजनक दिख रहा है। यह सदियों पुरानी प्रथा सिर्फ बकरियां पालने के बारे में नहीं है; यह देश भर के ग्रामीण समुदायों में जीवन बदलने और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के बारे में है।

4 thoughts on ““बकरी पालन का अनावरण: ग्रामीण भारत में सफलता की खेती””

Leave a comment